डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

आज चिट्ठी नहीं लाया कोई
अन्ना अख्मातोवा

अनुवाद - वरयाम सिंह


आज मेरे लिए कोई चिट्ठी नहीं लाया :
भूल गया है वह लिखना या चल दिया होगा कहीं,
बहार है जैसे रुपहली हँसी की गूँज,
खाड़ी में हिल-डुल रहे हैं जहाज।
आज मेरे लिए कोई चिट्ठी नहीं लाया।

अभी कुछ दिन पहले तक वह मेरे साथ था
इतना स्‍नेहिल, इतना प्रेमासक्‍त और इतना मेरा,
पर यह बात तो बर्फीले शिशिर की है।
अब बहार है, बहार की जहरीली उदासी है
अभी कुछ दिन पहले तक वह मेरे साथ था...

सुनाई देती है मुझे : हल्‍की थरथराती कमानी
छटपटा रही है जैसे मौत से पहले की पीड़ा में,
डर लग रहा है मुझे कि फट जाएगा हृदय
और पूरा नहीं कर पाऊँगी ये सुकुमार पंक्तियाँ...

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में अन्ना अख्मातोवा की रचनाएँ