डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

वे पढ़ते कविताएँ
अलेक्सांद्र ब्लोक

अनुवाद - वरयाम सिंह


जब तक खिलती रहीं तुम्‍हारी आँखें
मैं उलझा रहा पुस्‍तक के पन्‍नों में,
हिम-पक्षी के विशाल परों ने
ढक दिया मेरा दिमाग अंधड़ों से।

बहुत अजीब हैं ये मुखौटों के बोल
तुम उन्‍हें समझ पाए या नहीं ?
विश्‍वास है तुम्‍हें - पुस्‍तकों में हैं दंतकथाएँ
और मात्र गद्य है जीवन में।

तुम्‍हारे होते अविच्छिन्‍न रहेंगे मेरे लिए
यह रात और अंधकार नदी का,
उल्‍लास-भरी कविताओं की रोशनियाँ
और ठहरा हुआ यह धुआँ।

इतनी निर्मम न रहो मेरे प्रति,
न ही चिढ़ाओ मुझे अपने मुखौटे से,
मेरी अँधेरी यादों में
सुलगाओ न कोई डरावनी याद !

 


End Text   End Text    End Text