डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

कुछ नहीं चाहिए
वेलिमीर ख्लेब्निकोव

अनुवाद - वरयाम सिंह


कुछ नहीं चाहिए !
बस, टुकड़ा-भर रोटी
बूँद-भर दूध
यह आकाश
और ये बादल !

 


End Text   End Text    End Text