डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

घर
मारीना त्स्वेतायेवा

अनुवाद - वरयाम सिंह


मेरे यौवन के एक दिन जैसा यह घर
स्‍वागत करता है मेरा
जिस तरह स्‍वागत करता है मेरा यौवन
और मिलाने के लिए बढ़ाता है हाथ।

किसी इशारे की तरह
बरसाती के भीतर छिपने के प्रयास करता है माथा
ठीक जैसे झेंप रहा हो वह
कि वह माथा है और इतना बड़ा।

मैं यों ही तो नहीं कहती रही -
उठाओ, ले जाओ मेरी खातिर
कभी न सूखनेवाली कीचड़ में
चट्टान की तरह यह माथा।

नाप डाली अपने माथे से मैने
संग्रहालय के अपोलो की ऊँचाई
दूर, गलियों से कविताओं का पीछा करती मैं
अल्‍डर की टहनियों की तरह तोड़ डालूँगी दिन।

कुछ भी नहीं बची है आँखों में गरमाहट
जो है वह तो हरापन है शीशों का
जो सैकड़ों बरसों से देखते आ रहे हैं
उजड़ जाना उद्यानों का।

खिड़की के सो रहे शीशों का
नियम है यह :
मेहमानों का न करना इंतजार
प्रतिबिंबित न करना पास से गुजरते चेहरों को।

झुकी नहीं अपने जमाने के जुल्‍म के आगे ये आँखे
बनी रही दर्पण अपने आपकी।
ओ, उदास भौहों के नीचे से झाँकती
मेरे यौवन की हरियाली
हरियाली मेरी आँखों और आँसुओं की….

विराटताओं से घिरा
घर-मात्र अवशेष, घर-अमूल्‍य निधि,
शरमाता हुआ पेड़ों के पीछे से
मेरा घर -
मेरे हृदय का पावन शिशुचित्र....

 


End Text   End Text    End Text