डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

तूफानी दिन
सेरजिओ बदिल्ला

अनुवाद - रति सक्सेना


वांग वी संदेह में है
कौन सी परेशानी उसे लीयान के बारे में सोचने को मजबूर कर रही है

क्या तूफान तांग डाइनेस्टी पर पीछे से चूहे सा गुर्रायेगा?
पाले के नीचे दबे रुपहले गुच्छे सा
बकल की कील नहीं लगती
जब छांगि अनायास विपदा में गायब हो गई
कोई बहाना नहीं बनाया जा सकता
इसलिये वह ऐसे उदास है जैसे कि इमली के पत्ते ऐसे झड़ रहे हैं
जैसे की राजसिंहासन डोल रहा हो
और फिर भी वांग वी जिंदा है
उसका दीमग अटकलों से भन्ना रहा
इन सारे तूफानी दिनों में

 


End Text   End Text    End Text