डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

वह युवा महिला
सेरजिओ बदिल्ला

अनुवाद - रति सक्सेना


अधजली मोमबत्ती की रोशनी में
युवा महिला की लापरवाह फुसफुसाहटें मेरी हैं

उस गप्पबाजी को कैसे बयान करें
तारों की भगौड़ी दमक के सामने
जब कि अटारी में से परियाँ चुपचाप उड़ रही थीं
और नवीन चंद्र भुनगों को सम्मोहित कर रहा था
ऐसे में उस अजीब सी मोमबत्ती की रोशनी में
चल रही चटर पटर को कैसे बयान करें
कोहरे की सीधी चट्टान
आकस्मिक आवेग
रात नदी में फिसल रही थी

 


End Text   End Text    End Text