डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

लोककथा

तीन अजूबे
खलील जिब्रान

अनुवाद - बलराम अग्रवाल


हमारे भाई जीसस के तीन अजूबे ऐसे हैं जिन्हें आज तक लिखा नहीं गया।

पहला यह कि - वह आपकी और मेरी तरह एक इंसान ही था।

दूसरा यह कि - वह तर्कशील-बुद्धि का स्वामी था।

और तीसरा यह कि - पराजित होने के बावजूद वह जानता था कि वह विजेता है।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में खलील जिब्रान की रचनाएँ