डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

लोककथा

फरिश्ता और मनुष्य
खलील जिब्रान

अनुवाद - बलराम अग्रवाल


ईश्वर का पहला चिंतन था - फरिश्ता।

ईश्वर का पहला शब्द था - मनुष्य।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में खलील जिब्रान की रचनाएँ