डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

लोककथा

मौसम-मुर्ग
खलील जिब्रान

अनुवाद - बलराम अग्रवाल


मौसम-मुर्ग ने हवा से कहा, "कितना थका देने वाली और एकरस हो तुम। क्या तुम किसी और तरह नहीं बह सकती? तुम मेरी ईश-प्रदत्त स्थिरता को भंग करती हो।"

हवा ने कुछ नहीं कहा। वायुमंडल में वह केवल हँस दी।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में खलील जिब्रान की रचनाएँ