डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

लोककथा

दो मित्रों की कहानी
डॉ. जगदीशचंद्र जैन


किसी गाँव में दो मित्र रहते थे। एक बार उन्हें एक बड़ा खजाना मिला। कपटी मित्र ने कहा कि आज मुहूर्त ठीक नहीं, इसलिए हम इसे कल आकर ले जाएँगे। सच्चे मित्र ने जवाब दिया, अच्छी बात है। इधर कपटी मित्र ने रात को वहाँ से खजाना निकाल लिया और उसकी जगह कोयले भर दिए।

अगले दिन सुबह दोनों खजाना लेने चले। खोदकर देखा तो कोयले निकले। कपटी मित्र ने कहा, ''हमारे दुर्भाग्य से खजाने के कोयले हो गए!'' दूसरा मित्र उसकी चालाकी समझ गया। उसने कहा, ''क्या किया जाए, हमारा भाग्य ही ऐसा है।''

कुछ समय बाद सच्चे मित्र ने अपने कपटी मित्र की एक मूर्ति बनवाई और दो बंदर पाले। वह प्रतिदिन मूर्ति के ऊपर बंदरों के खाने की चीजें रख देता, और उसके ऊपर चढ़कर बंदर सब चीजें खा जाते।

एक दिन उसने अपने मित्र के दोनों लड़कों को भोजन के लिए निमंत्रित किया। लड़के भोजन के लिए आए तो उसने उन्हें कहीं छिपा दिया और पूछने पर कह दिया कि वे बंदर बन गए हैं।

लड़कों का पिता उनका पता लगाने के लिए वहाँ आया तो उसने उसे उस मूर्ति की जगह बैठाकर उसके ऊपर बंदर छोड़ दिए। बंदर उसके साथ खेलने लगे। उसने कहा, ''लो ये ही तुम्हारे लड़के हैं।''

कपटी मित्र कहने लगा, ''कहीं लड़के भी बंदर बन सकते हैं?''

उसके मित्र ने जवाब दिया, ''तो फिर खजाने का कोयला कैसे बन सकता है?''


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में डॉ. जगदीशचंद्र जैन की रचनाएँ