डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

दरवाजा
ताद्यूश रोजेविच

अनुवाद - अशोक वाजपेयी


लाल शराब का एक प्याला
एक मेज पर टिका हुआ
एक अँधेरे कमरे में

खुले दरवाजे से
मैं देखता हूँ बचपन का एक दृश्यालेख
एक रसोईघर और एक नीली केतली
पवित्र ह्रदय
माँ की पारदर्शी छाया

बाँग देता मुर्गा
एक सुडौल शांति में

पहला पाप
एक नन्हा सफेद बीज
एक हरे फल में कोमल
कड़वा सा

पहला शैतान गुलाबी है
और अपने गोलार्ध में घुमाता है
छींटदार रेशमी पोशाक में
रोशन दृश्यालेख में
एक तीसरा दरवाजा
खुलता है
और उसके पार धुंधलके में
पीछे की तरफ
जरा सा बाएँ को
या फिर बीचोंबीच

मैं देखता हूँ
कुछ नहीं।

 


End Text   End Text    End Text