डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

छछुंदर
हेलेन सिनर्वो

अनुवाद - रति सक्सेना


अब जाकर मुझे जवाब देने का वक्त मिला। देरी के लिए क्षमा
मेरे बेटे ने मेरी पेंशन चुरा ली और तालिन ले कर चला गया
कोई बात नहीं, मैं काम चला लूँगा, चट्टान के नीचे रखे लोहे के डिब्बे में
गिरे हुए कागज के सिपाही की तरह मुड़ा हुआ एक नोट पड़ा है
बेटे के जाने के बाद मैं वहाँ ऊपर अपने खजाने की ओर चढ़ा, और देखा कि
सुबह के धुँधलके में से कैसे एक छछुंदर निकला और
तेजी से बर्फ पर दौड़ता चला गया।
हवाई पट्टी पर एक छोटा बिना पंखों वाला हवाई जहाज
और यह बहुत गलत था कि वह हवा ने उसे
बर्फ के गड्ढे की ओर में ढकेल दिया

 


End Text   End Text    End Text