डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

श्रेष्ठ-मौन
मार्तिन हरिदत्त लछमन श्रीनिवासी

अनुवाद - पुष्पिता अवस्थी


उँगलियों के साथ खेलते हुए
मैं संवेदनात्‍मक ज्ञान रचता हूँ
जिस तरह नदी अपने प्रवाह के भीतर से
हम सबमें मौन रचती है।

उँगलियों के साथ खेलते हुए
मैं स्‍नेह-शब्‍द उकेरता हूँ
और उसी समय
तुम्‍हारे साथ मुस्‍कुराकर खिलता हूँ
जिससे शब्‍द
बदलने के काबिल हो सके
टुकड़ों में
श्रेष्‍ठ-मौन के लिए

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में मार्तिन हरिदत्त लछमन श्रीनिवासी की रचनाएँ