डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

पछतावा
होर्हे लुईस बोर्हेस

अनुवाद - सरिता शर्मा


मैंने किए जघन्य पाप
औरों से कहीं ज्यादा मैं नहीं रहा
प्रसन्न गुमनामी के हिमनदों को
ले लेने दो मुझे उनकी चपेट में निर्दयता से
माता पिता ने जन्म दिया मुझे
जोखिम-भरे सुंदर जीवन के खेल के लिए,
पृथ्वी, जल, वायु और आग के लिए
मैंने उन्हें निराश किया, मैं खुश नहीं था
मेरे लिए उनकी जोशीली उम्मीदें पूरी न हुई
मैंने दिमाग चलाया सममिति में
कला के तर्कों, नगण्यता के जाल में
वे चाहते थे मुझसे बहादुरी मैं वैसा नहीं था
यह कभी मुझसे दूर नहीं होती बगल में रहती है सदा,
उदास आदमी की परछाई

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में होर्हे लुईस बोर्हेस की रचनाएँ