डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

आरान द्वीप पर प्रेमी
सीमस हीनी

अनुवाद - सरिता शर्मा


कालातीत लहरें, उज्ज्वल, धूप को छानते, टूटे शीशे,
चट्टानों के चारों ओर
चमकते आते हैं अमेरिका से

आरान पर कब्जा जमाने या आरान दौड़ता है
चट्टान की विशाल बाँहों में ज्वार को भरने
जो झुक जाता है भाटे में धीरे से टकराकर ?

समुद्र ने जमीन को परिभाषित किया या पृथ्वी ने समुद्र को ?
दोनों को नया अर्थ मिला लहरों के टकराने से
सागर जमीन से मिला पूरी समरसता से

 


End Text   End Text    End Text