डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

अब राह खुली तेरे लिए
शशांक चूड़ामणि

अनुवाद - शंकरलाल पुरोहित