डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

चूड़ियाँ पहनने की कला
सुकृता पॉल कुमार

अनुवाद - सरिता शर्मा


खाली पन्ना शब्द पहनता है
स्नेह और धैर्य से
काँच की चूड़ियाँ पहनने वाली लड़कियों की तरह
एक एक करके,एक-एक करके, ध्यान से हौले-हौले,
इस तरह सही फिट करना कि
हाथ दबाते हुए न चूड़ी टूटे
और न ही हाथ को चोट लगे

वे लटकती हुई ढीली और बड़ी न हों
या इतनी कसी भी न हों कि खाल से चिपक जाएँ
उन्हें धड़कने दो
उल्लास में बजते हुए, हाथ में चढ़ने दो
शब्दों और सृजन के
नृत्य में थिरकने दो।


End Text   End Text    End Text