hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

भाषा
महेश वर्मा


मैं अपनी धूल हटाता हूँ
कि देखो वहाँ पड़े हुए हैं कुछ शब्द।
मेरे होने की संकेत लिपि से बेहतर,
विकसित भाषा के शब्द ये -
शायद इनसे लिखा जा सके निशब्द।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में महेश वर्मा की रचनाएँ