hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

अंत में
स्नेहमयी चौधरी


जब दोनों के ही बाएँ पैर नाकाबिल हों
तो हाथों के सहारे उठो चाहे जितना -
अंत में गिरोगे ही - ।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में स्नेहमयी चौधरी की रचनाएँ