hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

बच्चे
स्नेहमयी चौधरी


बच्चे नहीं जानते अपने-पराए
उनके लिए दादा दादा हैं, दादी दादी
उनसे क्या द्वेष रखना !


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में स्नेहमयी चौधरी की रचनाएँ