hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

ऊब
स्नेहमयी चौधरी


कमर की हड्डी टूटी
उसका क्या रोना ?
सुन-सुन कर सब ऊब उठे हैं
भीड़ उठ कर चली गई ।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में स्नेहमयी चौधरी की रचनाएँ