hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

पहुँच
स्नेहमयी चौधरी


हर चीज हाथों की पहुँच के हिसाब से
अपने दोनों तरफ रखना -
यह जीवन है ?
या... ।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में स्नेहमयी चौधरी की रचनाएँ