hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

समाप्त
स्नेहमयी चौधरी


पहले कुछ दिनों तक चाहा -
दूसरों के हिसाब से करूँ,
फिर
कुछ दिनों तक चाहा -
अपने हिसाब से करूँ।
अब
कोई भी चाह
क्यों करूँ !


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में स्नेहमयी चौधरी की रचनाएँ