hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

जड़ें
स्नेहमयी चौधरी


अंदर कभी समुद्र-मंथन चलता है,
कभी ज्वालामुखी फूटता है,
कभी दावाग्नि लगती है,
कभी बर्फ जमती है,
कभी बरसात होती है,
कभी आँधी-तूफान चलता है,
सब कुछ बाहर से क्यों नहीं गुजर जाता?

जड़ें तो न हिलतीं
पेड़ की।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में स्नेहमयी चौधरी की रचनाएँ