hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

औरतें
स्नेहमयी चौधरी


सारी औरतों ने
अपने-अपने घरों के दरवाजे़
तोड़ दिए हैं
पता नहीं
वे सबकी सब गलियों में भटक रही हैं
या
पक्की-चौड़ी सड़कों पर दौड़ रही हैं
या
चौराहों के चक्कर काट-काट कर
जहाँ से चली थीं
वहीं पहुँच रही हैं तितलियाँ ।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में स्नेहमयी चौधरी की रचनाएँ