hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

मेरा अपना कोना
स्नेहमयी चौधरी


सारे घर को साफ-सुथरा
बना दिया गया है
किसी कोने में कूड़ा
पर्दों पर सिलवटें
बिखरा सामान
नहीं दिखाई देता
छत का वह एकांत कोना
जिस पर पड़े हैं टूटी साईकिल के पहिए
चारपाई के पाए
संदूकों के पल्ले
कागजों के पीले टुकड़े बिखरे हैं जहाँ
वह मेरा अपना कोना है
जिसको सबके सामने नहीं रखा जा सकता
उसे इस असुरक्षित जगह
एकत्र कर दिया गया है
मनहूस की तरह
गर्मी सर्दी बर्दाश्त करता
पड़ा रहता है
झाँकता नहीं यहाँ कोई भी
अकस्मात बहुत निगाह बचाने पर भी
मेरी दृष्टि जब कभी पड़ जाती है उस पर
एक बेचैनी और अकुलाहट
अस्त-व्यस्त कर देती है सारे घर की सजावट
और जब ऊपर से उड़ कर
कागज के टुकड़े छा जाते हैं चारों ओर
मैं आँख बंद कर लेती हूँ
'नहीं! नहीं! यह कैसे संभव है कि
'वे फिर से साफ-सुथरी
जगहों पर बिखर जाएँ !'


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में स्नेहमयी चौधरी की रचनाएँ