hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

लड़की
स्नेहमयी चौधरी


मेरे अंदर की
अबोध लड़की
चुपचाप खिसक गई
जाने कहाँ
कविताओं में अपने को
अभिव्यक्त कर पाने में असमर्थ
फूट-फूट कर रो रही हूँ मैं यहाँ!


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में स्नेहमयी चौधरी की रचनाएँ