hindisamay head


अ+ अ-

कविता

सेतु
प्रभात रंजन


सेतु रौंदा गया है हर बार
दोनों ओर से वह
ठोकरें ही आज तक खाता रहा है
और फिर भी
यात्रियों को पार पहुँचाता रहा है -

...और अबकी बार भी ओ सेतु मेरे
तुम सहो -
दाँत भींचे रहो -
पेट के बल लेट
यूँ ही पीठ पर से पैर रखकर गुजर जाने दो इन्हें -

इस अनवरत रौंदे जाने में
चाहे तुम एक दिन जर्जर हो
ढह जाओ
यदि आज ये नहीं...
तो कभी जरूर
तुम्हारी ढही काया के स्थान पर
स्मारक बनाएँगे।


End Text   End Text    End Text