hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

दरवाज़ों के पीछे एक जंगल है
पंकज चतुर्वेदी


दरवाज़ों के पीछे
एक जंगल है
दरवाज़ों के आगे
और भी बड़ा जंगल है

जब दरवाज़े
इस भीषण जंगल में-से
गुज़रते हैं
तब उन्हें
कोई नहीं देखता


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में पंकज चतुर्वेदी की रचनाएँ