hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

हिंदी
पंकज चतुर्वेदी


डिप्टी साहब आए
सबकी हाज़िरी की जाँच की
केवल रजनीकांत नहीं थे

कोई बता सकता है -
क्यों नहीं आए रजनीकांत ?

रजनी के जिगरी दोस्त हैं भूरा -
रजिस्टर के मुताबिक़ अनंतराम -
वही बता सकते हैं, साहब !

भूरा कुछ सहमते-से बोले :
रजनीकांत दिक़ हैं

डिप्टी साहब ने कहा :
क्या कहते हो ?

साहब, उइ उछरौ-बूड़ौ हैं

इसका क्या मतलब है ?

भूरा ने स्पष्ट किया :
उनका जिव नागा है

डिप्टी साहब कुछ समझ नहीं पाए
भूरा ने फिर कोशिश की :
रजनी का चोला
कहे में नहीं है

इस पर साहब झुँझला गए :
यह कौन-सी भाषा है ?

एक बुज़ुर्ग मुलाज़िम ने कहा :
हिंदी है हुज़ूर
इससे निहुरकर मिलना चाहिए


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में पंकज चतुर्वेदी की रचनाएँ