hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

कला का समय
पंकज चतुर्वेदी


रामलीला में धनुष-यज्ञ के दिन
राम का अभिनय
राजकुमार का अभिनय है

मुकुट और राजसी वस्त्र पहने
गाँव का नवयुवक नरेश
विराजमान था रंगमंच पर

सीता से विवाह होते-होते
सुबह की धूप निकल आई थी
पर लीला अभी जारी रहनी थी
अभी तो परशुराम को आना था
लक्ष्मण से उनका लंबा संवाद होना था

नरेश के पिता किसान थे
सहसा मंच की बग़ल से
दबी आवाज़ में उन्होंने पुकारा :
नरेश ! घर चलो
सानी-पानी का समय हो गया है

मगर नरेश नरेश नहीं था
राम था
इसलिए उसने एक के बाद एक
कई पुकारों को अनसुना किया

आख़िर पिता मंच पर पहुँच गए
और उनका यह कहा
बहुतों ने सुना -
लीला बाद में भी हो जाएगी
पर सानी-पानी का समय हो गया है


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में पंकज चतुर्वेदी की रचनाएँ