hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

प्रेरणा
पंकज चतुर्वेदी


एकपत्नीव्रत की प्रेरणा
राम को
अपने पिता से
मिली होगी

न तीन रानियाँ होतीं
न सपत्नी-डाह से
पैदा हुआ
स्त्री-हठ
न वनवास
न पिता का वह
असमय चले जाना


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में पंकज चतुर्वेदी की रचनाएँ