hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

आभार
पंकज चतुर्वेदी


एक प्रदेश की राजधानी में मिले वह
राष्ट्रीय परिसंवाद में
एक विश्वविद्यालय में प्रोफ़ेसर
हिंदी के वरिष्ठ आलोचक

नींद से जगाकर पहली ख़बर
उन्होंने मुझे यही दी -
'मैं विभागाध्यक्ष नहीं बन पाया'

मैं समझ नहीं सका
इस बात का
मेरी ज़िंदगी से
क्या संबंध है

तभी वहाँ आए मेरे मित्र
मैंने उनसे परिचय कराया -
ये गिरिराज किराडू हैं
युवा कवि
'प्रतिलिपि' के संपादक

बाद में उन्होंने पूछा -
'किराडू क्या तमिलनाडु का है ?'

मैंने कहा : नहीं
पर आपको ऐसा क्यों लगा ?

वह बोले : किराडू
चेराबंडू राजू से
मिलता-जुलता नाम है

वैसे जो नाम वह ले रहे थे
सही रूप में चेरबंडा राजु है
क्रांतिकारी तेलुगु कवि का

फिर उन्होंने किसी प्रसंग में कहा :
स्त्रियाँ पुरुषों को
एक उम्र के बाद
दया का पात्र
समझने लगती हैं

परिसंवाद के आख़िरी दिन
उन्हें बोलना था
'आलोचना के सौंदर्य-विमर्श' पर
मगर उससे पहले उनकी ट्रेन थी
इसलिए आयोजकों ने चाहा
कि वह 'आलोचना के समाज-विमर्श' पर
कुछ कहें

यों एक सत्र का शीर्षक
'आलोचना का धर्म-विमर्श' भी था

उन्होंने मुझसे कहा :
इस सत्र में बोलने को कहा जाता
तो ज़्यादा ठीक रहता

फिर कारण बताया :
हिंदी की सर्वश्रेष्ठ आलोचना
धर्म ही पर न लिखी गई है

बहरहाल उन्होंने अपने सत्र
'आलोचना का समाज-विमर्श' में
जो कुछ कहा
उसका सारांश यह है :
पहले भी दो बार बुलाया था यहाँ
व्यवस्था अच्छी है
आभारी हूँ
इस बार भी
आभार


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में पंकज चतुर्वेदी की रचनाएँ