hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

बहुराष्ट्रीय
पंकज चतुर्वेदी


बहुराष्ट्रीय
कंपनियाँ ही नहीं
गद्य भी हो सकता है :
यह मैंने जाना
जब मैं एक लंबे निबंध से
छला गया


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में पंकज चतुर्वेदी की रचनाएँ