hindisamay head


अ+ अ-

कविता

बयान
नरेंद्र जैन


मुझसे पूछकर, नहीं लिया गया था
तीस हजार करोड़ रुपयों का कर्ज
मेरी सात पुश्तों से भी
इसका ब्याज चुकाया न जाएगा
मुझसे पूछकर
नहीं परोसा गया इस मुल्क को
बहुराष्ट्रीय निगमों के भोजन की थाली में
मेरी सात पुश्तों से भी
इसका खमियाजा न भुगता जाएगा
मुझसे
पूछकर कुछ भी नहीं किया गया
न संविधान लिखा गया
न भारतीय दंड संहिता
न स्वतंत्रता संग्राम का इतिहास
अलबत्ता,
पेंशन देने से पहले कहा गया मुझसे
किसी राजपत्रित अधिकारी से
अपने जीवित होने का प्रमाणपत्र
लेकर आओ


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में नरेंद्र जैन की रचनाएँ



अनुवाद