hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

तीन उपशीर्षकों वाली एक कविता
सुरेन्द्र स्निग्ध


18 जुलाई , 1994 की रात

एक - बचा रहे सिर्फ एक बीज

कल की रात
मेरा मानसिक धरातल था बृहस्पति ग्रह
विचारों के धूमकेतु के विशालकाय अग्निपिंड
टकरा रहे थे इससे लगातार

सोचता रहा मैं
हो जाए नष्ट यह बृहस्पति
नष्ट हो जाए पूरा ब्रह्मांड
चर अचर सबकुछ
कुछ भी नहीं बचे
कुछ भी नहीं
मेरी कोई कविता भी नहीं
कोई एक भी शब्द
कुछ भी नहीं बचे
बचा रहे सिर्फ यह छोटा-सा बीज

कल की रात
तनाव में था सारा ब्रह्मांड
ब्राजील के फुटबॉल खिलाड़ी रोमेरियो की तरह
तनाव में थी पूरी प्रकृति
इटली के रोबर्टो वैजियो की तरह
इस तनाव में
कैसे लिखी जाती कोमल कविता
कैसे ढलते शब्द
तानता के चरम-बिंदु पर
सबकुछ टूट जाता है
टूट जाते हैं
ग्रह-नक्षत्रों के तमाम चुंबकीय सूत्र

ब्राजील और इटली की तरफ के
गोलपोस्टों के जाल को
विचारों की गेंद से
मैं करता रहा तार-तार
करता रहा विस्फोट
वहाँ पैदा हो रही है
अग्नि की अपूर्व लपट

अग्नि की इस लपट से
कैसे बचा पाऊँगा मैं
अपनी कोमल कविता
इसके गर्भ में कैसे
समाहित कर सकूँगा
अग्नि की यही लपट
विचारों का अक्षय भंडार

दो - मजबूत पुट्ठों वाला घोड़ा

(साथी कवि महेश्वर को याद करते हुए)

कल की रात कविताओं में ढूँढ़ता रहा अपना एक दोस्त
एक एक्टिविस्ट
एक कामरेड
एक चिंतक
एक कवि

आज है वह
सारे ग्रह नक्षत्रों से दूर

जब तक रहा
इस छोटे-से भूखंड पर
टकराता रहा
धूमकेतु की तरह
टकराता रहा
विचारों के बृहस्पति से

आज उसके लिए
मेरी कविता बहुत छोटी पड़ रही है
ओछे पड़ रहे हैं शब्द

सदियों से पीड़ित
दुखी
लेकिन संघर्षरत लोगों की
निस्तेज आँखों की वह था चमक

जगह-जगह की ईंटों और
अनगढ़ पत्थरों को हमने
कई बार बटोरा था साथ-साथ
मानव-मुक्ति का पक्का घर बनाने हेतु
हमने रखी थी नींव
विचारों के अग्नि-पिंड से
सघन अंधकार को भेदने की कोशिशें
की थीं हमने लगातार
साथियो,
मैं तो थोड़ा रुक भी गया था -
संशय के बादल
घिर आए थे मेरे गिर्द
रुका नहीं था वह
मृत्यु की गहरी खाई में भी
मजबूत पुट्ठे वाले घोड़े की तरह
दौड़ता रहा था लगातार

उनके लंबे आयाल
सूर्य की अगवानी में
बिछ गए थे रेड कार्पेट की तरह
मौत को भी धता बताते हुए
वह दौड़ता रहा
आँधी की तरह
तूफान की तरह

संघर्ष के एस्ट्रो टर्फ पर
वह दौड़ता रहा
किसी अथक रोमेरियो की तरह
या कि किसी बैजियो की तरह
निशाना रहा हमेशा गोलपोस्ट

उसके लिए
यह पृथ्वी थी फुटबॉल
पूरी शक्ति के साथ
विचारों के गोलपोस्ट में
दाग दिया था इसे
बिना किसी थकान के
बिना किसी तनाव के

तीन - प्रेम : एक दुर्गम पहाड़

(कवि गोरख पांडे की आत्महत्या पर)

नहीं लिखूँगा
इसबार कोई प्रेम कविता
सोचता रहा था कल की रात

मैं लिखूँगा कविता
एक कवि मित्र के नाम
जिसके लिए
प्रेम था एक दुर्गम पहाड़
प्रेमिका थी
इसी पहाड़ के झीने पर्दे के उस पार

इस पार थी
सड़ी गली व्यवस्था
युगों से शापित मानव-जाति
इसे बदल डालने के लिए
कवि की आँखों में थे सपने
सपनों का ठाठें मारता समंदर

आँखों में थी
धुँधली सी तसवीर
उस प्रेमिका की
जो थी दुर्गम पहाड़ के उस पार
पहले ही मैंने कहा था साथियो,
पहाड़ था वह झीना सा पर्दा

सपनों में हटता था यह पर्दा
या यूँ कहिए, उड़ जाता था पहाड़
लगाकर उजले-उजले पंख
और सामने होती थीं हरियालियाँ
सिर्फ हरियालियाँ
सागर के अनंत विस्तार वाली
हरियालियाँ

कहता था कवि मित्र-
"साथी,
लाल घोड़े पर सवार होकर
आता हूँ इन हरियालियों में
इसे देखते ही जगती है प्यास,
कैसी है यह प्यास!
कैसे बुझेगी यह प्यास!
इन हरियालियों में
पता नहीं क्यों
कहीं नहीं है एक बूँद
मीठा जल
कहीं नहीं फूटता है प्रपात
कहीं से कोई पंछी
चोंच में भरकर नहीं लाता है जल
कहीं किसी पत्ते पर
या फूलों की नन्हीं कोमल पंखुरियों पर
अटका नहीं मिलता है ओस-कण
कितना प्यासा हूँ दोस्त!
दूर देश से आने वाला यह लाल घोड़ा भी
बहुत प्यासा लगता है दोस्त!"

सचमुच बहुत प्यासा था वह

मौत की ठंडी गोद भी
नहीं बुझा सकी उसकी प्यास
फूलों से कटती हुई दिल्ली
बन गई उसका कब्रगाह,

है न सचमुच प्रेम बहुत कठिन
प्रेम कविता लिखना
और भी कठिन है मेरे दोस्त
प्रेम करना तो और भी कठिन।
जीवन से
हाँ, खासकर जीवन से।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में सुरेन्द्र स्निग्ध की रचनाएँ