hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

उठ महान
माखनलाल चतुर्वेदी


उठ महान ! तूने अपना स्वर
यों क्यों बेंच दिया?
प्रज्ञा दिग्वसना, कि प्राण का
पट क्यों खेंच दिया?

वे गाए, अनगाए स्वर सब
वे आए, बन आए वर सब
जीत-जीत कर, हार गए से
प्रलय बुद्धिबल के वे घर सब!

तुम बोले, युग बोला अहरह
गंगा थकी नहीं प्रिय बह-बह
इस घुमाव पर, उस बनाव पर
कैसे क्षण थक गए, असह-सह!

पानी बरसा
बाग ऊग आए अनमोले
रंग-रँगी पंखुड़ियों ने
अंतर तर खोले;

पर बरसा पानी ही था
वह रक्त न निकला!
सिर दे पाता, क्या
कोई अनुरक्त न निकला?

प्रज्ञा दिग्वसना? कि प्राण का पट क्यों खेंच दिया!
उठ महान तूने अपना स्वर यों क्यों बेंच दिया!


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में माखनलाल चतुर्वेदी की रचनाएँ