hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

जुनून-ए-शौक़ अब भी कम नहीं है
असरारुल हक़ मजाज़


जुनून-ए-शौक़ अब भी कम नहीं है
मगर वो आज भी बरहम नहीं है

बहुत मुश्किल है दुनिया का सँवरना
तेरी ज़ुल्फ़ों का पेच-ओ-ख़म नहीं है

मेरी बर्बादियों के हमनशीनों
तुम्हें क्या ख़ुद मुझे भी ग़म नहीं है

अभी बज़्म-ए-तरब से क्या उठूँ मैं,
अभी तो आँख भी पुरनम नहीं है

'मजाज़' इक बादाकश तो है यक़ीनन
जो हम सुनते थे वो आलम नहीं है


End Text   End Text    End Text