hindisamay head


अ+ अ-

कविता

रात
आलोकधन्वा


रात
रात
तारों भरी रात

मीर के सिरहाने
आहिस्ता बोलने की रात


End Text   End Text    End Text