hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

रेडियो पर एक योरपीय संगीत सुनकर
शमशेर बहादुर सिंह


'अरुणा' और 'एम.ए. सिद्दीकी' को समर्पित

                  [यह संगीत यों तो योरपीय था, मगर
                  जिस तरह इसका चित्र मेरी भावनाओं में
                  उभरता गया, मुझे लगा कि जैसे किसी अरबी-
                  रूमानी इतिहास के हीरो और हीरोइन अपने
                  घुटते आवेश, मर्म से जलते उच्छ्वास च्‍छ्वास और कभी
                  दर्दनाक फरियादों के क्षण, कभी आँसुओं-भरे
                  मौन को मूर्त कर रहे हैं। उसी संगीत से
                  मिलती-जुलती शैली में उसी भावुक प्रभाव को
                  शब्‍दों से बाँधने का यह कुछ प्रयास है। - श.]

मैं
सुनूँगा तेरी आवाज
पैरती बर्फ की सतह में तीर-सी
            शबनम की रातों में
                  तारों की टूटती
                         गर्म
                         गर्म
                              शमशीर-सी -
            तेरी आवाज
                   खाबों में घूमती-झूमती
                          आहों की एक तसवीर सी
                   सुनूँगा : मेरी-तेरी है वह
                          खोई हुई
                          रोई हुई
                               एक तकदीर-सी
परदों में - जल के - शान्त
      झिलमिल
      झिलमिल
             कमलदल।

 

रात की हँसी है तेरे गले में,
                  सीने में,
            बहुत काली सुर्मयी पलकों में,
            साँसों में, लहरीली अलकों में :
                        आयी तू, ओ किसकी!
                        फिर मुसकरायी तू
            नींद में - खामोश... वस्‍ल।

 

शुरू है आखिरी पीर।
 

सलाम!...
मेरे दर्द से हमकलाम
            न हो!
       जा, अब सो,
            न रो।
तू मेरी बेबस बाँहों पर, सर रख कर, ओह,
           न रो !

     जो कुछ है
     जो कुछ है
          खो!
          खो!
          खो!
ओ शीरीं! ओ लैला! ओ हीर!
          - जा!
          - जा!
          - जा! - सो!...

×      ×

बेखबर मैं,
बाखबर आधी-सी रात।
बेखबर सपने हैं।
बाखबर है एक, बस, उसकी जात!
       तू मेरी!...
       आमीन!
       आमीन!
       आमीन!
[1943]

 

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शमशेर बहादुर सिंह की रचनाएँ



अनुवाद