hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

मुझे – न मिलेंगे – आप
शमशेर बहादुर सिंह


मुझे
       न मिलेंगे आप,
आपका
       एकाकी क्षण हूँ मैं;
आपका
       भय और पाप,
आपका
       एकाकीपन हूँ मैं।

            आसमान
                 ढँके हुए है
            समुद्र का
                 नील द्रव्‍य -
            देर से वह
                 तके हुए है
            आपका
                 और मेरा कर्तव्‍य।

 

बरस पड़ेगा वह
           सर पर -
उससे
     बचाव कोई नहीं।
वह अपनी
     समाधि है ऊपर;
उसमें
     अपनाव कोई नहीं।

[1943]
 

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शमशेर बहादुर सिंह की रचनाएँ



अनुवाद