hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

सुबह
शमशेर बहादुर सिंह


 

 

 

 

 

 

 

जो कि सिकुड़ा हुआ बैठा था, वो  पत्‍थर
सजग-सा होकर पसरने लगा
आप से आप।



 

Harish0001

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शमशेर बहादुर सिंह की रचनाएँ



अनुवाद