hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

मन
शमशेर बहादुर सिंह


मोह मीन      गगन लोक में
             बिछल रही
लोप हो कभी       अलोप हो कभी
          छल रही।
मन विमुग्‍ध
नीलिमामयी        परिक्रमा लिये,
        पृथ्‍वी-सा घूमता
             घूमता
(दिव्‍यधूम तप्‍त वह)
      जाने किन किरणों को चूमता,
               झूमता -
      जाने किन...
मुग्‍ध लोल व्‍योम में
      मौन वृत्त भाव में रमा
      मन,
      मोह के गगन विलोकता
भाव-नीर में अलोप हो
            कभी
                 लोप हो,
      जाने क्‍या लोकता
            मन!

 

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शमशेर बहादुर सिंह की रचनाएँ



अनुवाद