hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

घनीभूत पीड़ा
शमशेर बहादुर सिंह


(एक सिम्‍फनी)

                      जवाँद‍राजियाँ खुदी की रह गयीं :
                      तेरी निगाहें कहना था सो कह गयीं।

       - कोई
                आँख मुँदी है न खुली!
            एक ही चट्टान... लहर पार लहर, पार...
            सूर्य के इस ओर ठहर
                स्‍तम्भ-तुला पर सिहरा
                     मौन जलद-कन।
            - आँख मुँदी है न खुली कोई।

        × ×

       बुलबुले उठे, उड़े
              - कि तीरछे मुड़े :
                          खिले : फेन-कमल बन,
                     उज्‍ज्‍वलतम :
             धनपट से दूर, वार, - खुले।
             कोमल कन, छन्-छन्, बुलबुले।
             ज्‍योति-जुड़े।

                 × ×

          खोल, उठा ज्‍योति के मयंक।
                अंक मिटा भाल के, निशंक!
                       मोह-सत्‍य       भौंह बंक।
                       लौह सत्‍य       प्रेम-पंक।
          ...अन्‍यथा     व्‍यथा व्‍यथा, वृथा...

                 है अनादि : आदि रंक - शून्‍य अंक।
                       तोल उठा वक्ष के अशंक भाव
                              की अथाहता!

                    × ×

           वर्जित को जीत, भीत को भगा :
           मौन प्रेम में पगा हृदय जगा!
                 सुप्ति-शक्ति-पट विलोल,
                        खोले मुक्‍ताभ विमल उर अमोल
                                सम्‍पुट अलगा।

× ×

                                हे अमल अनल!
           छोर कहाँ छोड़ा उस भाव का विमल :
           सरिता-तट छोह जहाँ मोह का कमल?

                 चट्टानें तानें लहरों की नित रहीं तोड़
                 गति मरोड़ रहीं मनःस्‍वन की, -
                              उन्‍चास मोड़
                 होड़ ले रहे तुमसे केवल,
                          हे अमल अनल!
                          हे अमल अनल!

            × ×

           देखा था वह प्रभात;
           तुम्‍हें साथ; पुनः रात :
           पुलकित... फिर शिथिल गात;
           तप्‍त माथ, स्‍वेद-स्‍नात;
           मौन म्‍लान, पीत पात;
     पुनः अश्रु-बिम्‍ब-लीन
           शनैः स्‍वप्न-कम्‍प वात।

           × ×

           हे अगोरती विभा,
                 जोहती विभावरी!
           हे अमा उमामयी,
                 भावलीन बावरी!
           मौन मौन मानसी,
                 मानवी व्‍यथा-भरो!

                     
लजाओ मत अभाव की परेख ले :
समाज आँख भर तुम्हें न देख ले।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शमशेर बहादुर सिंह की रचनाएँ



अनुवाद