hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

गीत
शमशेर बहादुर सिंह


सावन की उनहार
            आँगन-पार।

      मधु बरसे, हुन बरसे,
      बरसे -- स्‍वाँति धार।
                  आँगन पार।

         सावन की उनहार -

[1948]
 

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शमशेर बहादुर सिंह की रचनाएँ



अनुवाद