hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

नागार्जुन की कविता
ए. अरविंदाक्षन


विदर्भ के
आंध्र के
बुन्देलखंड के
लमही के
खेतों में
बिखरी पड़ी है
अलग-अलग
खुशबुओं सहित।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में ए. अरविंदाक्षन की रचनाएँ