hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

जल बिन मछली
ए. अरविंदाक्षन


जल बिन मछली जी सकती है
सपनों का अपार भंडार
उनके भीतर
जल उनका मार्ग
इधर-उधर
अन्दर-बाहर
सपने उनके भीतर
जल उनके बाहर।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में ए. अरविंदाक्षन की रचनाएँ