hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

कविता की जगह
ए. अरविंदाक्षन


बमों से उड़ाए जा रहे वाहनों
और बिखरते मांस के लोथड़ों के बीच
कविताओं के लिए
थोड़ी-सी जगह
क्यों नहीं बची है?
तमाम कवियों से
बस, एक ही सवाल
कविता को कहाँ होना चाहिए।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में ए. अरविंदाक्षन की रचनाएँ