hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

बिखरना
रघुवीर सहाय


कुछ भी रचो सब के विरुद्ध होता है
इस दुनिया में जहाँ सब सहमत हैं
क्या होते हैं मित्र कौन होते हैं मित्र
जो यह जरा-सी बात नहीं जानते
अकेले लोगों की टोली
देर तक टोली नहीं रहती
वह बिखर जाती है रक्षा की खोज में
रक्षा की खोज में पाता है हर एक अपनी-अपनी मौत


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में रघुवीर सहाय की रचनाएँ