hindisamay head


अ+ अ-

कविता

यह दुख
विमलेश त्रिपाठी


अँटी पड़ी है पृथ्वी की छाती
असंख्य दुःखों से
मेरे दुःख की जगह कितनी कम

जिए जा रहे हैं लोग उजले दिनों की आशा में
रोकर भी-सहकर भी
कि इस जन्म में न सही तो अगले जन्म में

सोचता हूँ इस धरती पर न होता
यदि ईश्वर का तिलिस्म
तो कैसे जीते लोग
किसके सहारे चल पाते

नहीं मिलती कोई जगह रो सकने की
जब नहीं दिखती कोई आँचल की ओट
रश्क होता है उन लोगों पर
जिनके जेहन में आज भी अवतार लेता है
कोई देवता

मन हहर कर रह जाता है
दुःख तब कितना पहाड़ लगता है।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में विमलेश त्रिपाठी की रचनाएँ